Webhosting Service पर अपनी साइट कैसे setup करें

पिछले आर्टिकल में हमने आपको domain  name खरीदने के बारे में विस्तार से बताया था। अपनी पसंद का डोमेन लेने के बाद अपना blog या website बनाने के लिए जो अगला कदम आपको उठाना है वह है web hosting service लेना। एक बार जैसे ही आप गूगल पर वेब होस्टिंग लिख कर सर्च करेंगे तो सैकड़ों web hosting companies की जानकारी आपके समक्ष आ जायेगी लेकिन यदि आप इस क्षेत्र में नए हैं तो शुरुआत में आप किसी भी कंपनी पर भरोसा करने के बजाये बड़े और trusted नामों पर ही भरोसा करें। इसका प्रमुख कारण है इन ब्रांड्स की customer care  service और help section जो की किसी भी नए blogger या web developer के लिए बहुत ही महत्त्वपूर्ण होते हैं।

यहां  मैं एक बार फिर कहना चाहूँगा कि webhosting  लेते समय सस्ते (cheap hosting) के चक्कर में बिलकुल न फंसे, खासकर यदि आप इस क्षेत्र में नए हैं तब तो बिलकुल नहीं।   मेरी राय में Hostgator , Blue Host , Godaddy आदि कुछ ऐसे बड़े अंतर्राष्ट्रीय ब्रांड हैं जिन पर आप अपनी वेब यात्रा की शुरुआत करने के लिए भरोसा कर सकते हैं।

आगे बढ़ने से पहले आपको web  hosting की terminology समझनी पड़ेगी। ज्यादातर वेब होस्टिंग कंपनियां तीन तरह के hosting plans ऑफर करती हैं। Shared Hosting , VPS (Virtual private Server) और Dedicated Server प्लान्स। यहां हम यह मान कर चल रहे हैं की आप एक WordPress ब्लॉग बनाने जा रहे हैं और उसके लिए आपको shared Hosting लेनी है। shared होस्टिंग का अर्थ है की एक ही सर्वर के रिसोर्सेज को कई users द्वारा शेयर किया जाना।

shared  web  Hosting  में भी कई कई plans  होते हैं और पहली बार वेब होस्टिंग खरीद रहे व्यक्ति को ये समझने में बहुत कठिनाई होती है की इनमें से कौनसा लिया जाए। कितनी space  ली जाए या कितनी bandwidth  ली जाए। आइये इसे समझते हैं।

यदि आप एक WordPress  ब्लॉग बनाने का सोच रहे हैं तो उसके लिए आपको शुरुआत में बहुत ज्यादा space की आवश्यकता नहीं होगी। 500MB  space वाला प्लान भी आपके लिए पर्याप्त से अधिक ही होगा। दूसरी चीज़ होती है Bandwidth . इसकी आवश्यकता शुरुआत में तो बस नाम मात्र की ही होती है लेकिन जैसे जैसे आपके ब्लॉग पर आने वाले ट्रैफिक की मात्रा बढ़ती है, bandwidth की मात्रा भी बढ़ती जाती है।

कहने का अर्थ ये हैं की शुरुआत में आप web hosting का कोई भी entry level plan ले सकते हैं और बाद में अपनी जरूरत के अनुसार उसे upgrade कर सकते हैं।

Web Hosting Plan लेने के बाद आपकी वेब होस्टिंग कंपनी आपको एक ईमेल भेजती है जिसमें आपके होस्टिंग अकाउंट की सम्पूर्ण detail व दिशा निर्देश रहते हैं। इन details में आपका यूजर नेम, पासवर्ड, control  panel  URL  आदि होते हैं जिनका उपयोग करके आप अपने अकाउंट में login कर सकते हैं। इसके साथ ही आपकी website का एक temporary  URL  भी दिया रहता है जिसे आपको अपने domain से connect  करना होता है, ताकि आपकी website  आपके द्वारा register  कराये गए domain  के जरिये किसी भी browser  में खुल सके।

इसके लिए आपको आप के webhost द्वारा nameserver  डिटेल्स दी जाती है। आपको इन name server details को अपने domain name के कण्ट्रोल पैनल में जाकर बदलना  होता है। एक बार nameservers बदलने के बाद कुछ घंटों में वेबसाइट आपके अपने domain  के जरिये खुलने लगती है।

अब आपकी वेबसाइट पर आप files  upload कर सकते हैं। इसके लिए आप contorl panel का उपयोग कर सकते हैं या फिर किती FTP program का ( जैसे  FileZilla) सहारा ले सकते हैं।

खैर, हमें तो  WordPress ब्लॉग बनाना है, तो अगली पोस्ट में बात करते हैं WordPress installation की ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *